थिग्मा

पुनेरी पगड़ी

एक सच्चा पुणेकर पुनेरी पगड़ी के साथ अपने सिर पर इतिहास और परंपरा का मान रखता है।

Picture of Lalit Bhatt
ललित भट्ट

पुनेरी पगड़ी एक पारंपरिक मराठी पगड़ी है जो कई सदियों से पुणे की संस्कृति का हिस्सा रही है। पगड़ी को खासकर शादियों और अन्य महत्वपूर्ण अवसरों के दौरान धारण किया जाता है । पुनेरी पगड़ी की एक अनूठी शैली और आकार है जो इसे भारत में अन्य पारंपरिक पगड़ियों से अलग है। पुनेरी पगड़ी को भौगोलिक संकेत (GI) टैग प्राप्त है।

Lord Ganapati with Puneri Pagadi
Lord Ganapati with Puneri Pagadi

पुनेरी पगड़ी को चक्रीबंध का आधुनिक संस्करण माना जाता है। पुनेरी पगड़ी को सबसे पहले 18वीं शताब्दी में न्यायमूर्ति महादेव गोविंद रानाडे, जिन्हें 'न्यायमूर्ति रानाडे' के नाम से भी जाना जाता है, ने सामाजिक सुधार को समर्थन देने के लिए पहना था। लोकमान्य तिलक ने बाद में पगड़ी को और लोकप्रिय बनाया, और यह विद्वानों, वकीलों और अमीरों के लिए पोशाक अभिन्न अंग बन गया । पुनेरी पगड़ी ने मराठी नाटक घासीराम कोतवाल के प्रदर्शन के बाद काफी लोकप्रियता हासिल की।

पुनेरी पगड़ी महाराष्ट्र के लोगों के लिए गर्व और सम्मान का प्रतीक है। यह सूती या रेशमी कपड़े से बना होता है, जिसे कपास या स्पंज की पतली परत से बनी टोपी के चारों ओर लपेटा जाता है। पगड़ी का एक अनोखा आकार होता है, जो पगड़ी जैसा दिखता है लेकिन उससे अलग होता है। यह आमतौर पर पाँच से छह फीट लंबा और चार से छह इंच चौड़ा होता है, और इसे ठीक से बाँधने के लिए बहुत कौशल और धैर्य की आवश्यकता होती है।

पगड़ी महाराष्ट्रीयन संस्कृति का एक अभिन्न अंग है, और इसे अक्सर बहादुरी और वीरता से जोड़ा जाता है। मराठा योद्धा युद्ध के दौरान पगड़ी पहनते थे, और यह उनके साहस और शक्ति का प्रतीक बन गया। पगड़ी का एक धार्मिक महत्व भी है, और इसे विभिन्न हिंदू अनुष्ठानों और समारोहों के दौरान पहना जाता है।

पुनेरी पगड़ी समय दर समय काफी विकसित हुई है, और आज, यह विभिन्न शैलियों और डिजाइनों में उपलब्ध है। पारंपरिक पगड़ी सादा और सरल थी, लेकिन आधुनिक संस्करण विभिन्न रंगों, पैटर्नों और कढ़ाई में आते हैं। पगड़ी को अधिक आकर्षक बनाने के लिए अक्सर मोती और अन्य सजावटी सामग्रियों से सजाया जाता है।

पुनेरी पगड़ी बांधना एक कला है, और इसमें निपुण होने के लिए वर्षों के अभ्यास की आवश्यकता होती है। पगड़ी बांधने के विभिन्न तरीके हैं और प्रत्येक शैली का अपना अनूठा महत्व है। सबसे लोकप्रिय शैली शेला पगड़ी है, जो शादियों और अन्य उत्सव के अवसरों पर पहनी जाती है। शेला पगड़ी को इस तरह से बांधा जाता है कि यह एक मुकुट जैसा दिखता है, और इसे समृद्धि और सौभाग्य का प्रतीक माना जाता है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Artist doing kalamkari
कलमकारी - एक प्राचीन भारतीय कला

कलमकारी एक प्राचीन भारतीय हस्तकला है जिसमे कपड़े के ऊपर चित्रकारी की जाती है। इसमें रंगीन ब्लॉक्स का भी इस्तेमाल किया जाता है। यह कला भारत के दक्षिणी भाग में प्रचलित हुई, विशेष रूप से आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु राज्यों में। "कलमकारी" का शाब्दिक अर्थ है "कलम से सजाना" ।

पूरा लेख »
Indian celebration's significance with Diya decoration.
The Significance of Diya: Diwali Decoration, Light, Tradition, and Symbolism

The flickering glow of a diya (traditional oil lamp) holds a special place in the hearts of millions, not just in India but also among people of various cultures around the world with Diwali decorations. These small, often beautifully crafted lamps are much more than just sources of light. They carry profound symbolic and cultural significance, transcending the practical purpose of illumination. In this blog, we delve into the rich traditions and symbolism behind the diya.

पूरा लेख »
Sohrai Painting
सोहराई खोवर पेंटिंग

सोहराई और खोवर पेंटिंग झारखंड के आदिवासी समुदायों द्वारा जीवन के विभिन्न पहलुओं को दर्शाने के लिए की जाती हैं। दिवाली के एक दिन बाद अक्टूबर-नवंबर के महीने में सोहराई मनाया जाता है। खोवर पेंटिंग शादियों में की जाती हैं। 2019 में, खोवर और सोहराई पेंटिंग को भारत सरकार द्वारा भौगोलिक संकेत (GI) टैग प्रदान किया गया।

पूरा लेख »
hi_INहिन्दी